Documentary Production

Prof Dev Vrat Singh


Central University, Ranchi

Professor Dev Vrat Singh has been actively engaged in the media profession, teaching, training, and research for the last 24 years. A professional-turned-academician, Prof. Singh earned his doctorate in Mass Communication in the specific area of television news. He studied radio and television journalism at the prestigious Indian Institute of Mass Communication, New Delhi in 1997. He was actively engaged in television journalism with many national channels before joining media academics. At present, he is a Professor of communication at the Department of Mass Communication, Central University of Jharkhand, Ranchi. Previously, he has also been associated with Makhanlal Chaturvedi National University of Journalism and Communication, Bhopal, Madhya Pradesh, Institute of Mass Communication and Media Technology, Kurukshetra University, Kurukshetra and Maharshi Dayanand University, Rohtak, Haryana. Dr. Singh has authored five books on Electronic Media History, Television Journalism, and Television Content. His 20 research papers have been published by many reputed research journals. He contributed chapters in 12 books and more than 50 articles in various newspapers and magazines. He has supervised more than 100 Master’s Degree and M.Phil. dissertations and two doctorates. He has been frequently invited as a resource person by the national broadcasters All India Radio and Doordarshan in its programs. His research interests are Indian Perspectives of Communication, New Media and Visual Media


Press Release

Public Relations Society of India

 Day 14 of PR – Mass Communication Orientation Programme for Students with

Prof. Dev Vrat Singh (Central University, Ranchi)) on 14th October, 2021

New Delhi

14th October,2021

On the fourteenth day of the lecture series, Prof. Dev Vrat Singh was the guest speaker for this academic initiative by PRSI. In his lecture on ‘Documentary Production’ He started by telling about the importance of documentary, photography, and visual media.  He discussed software that helps largely in script editing. He talked about the importance of pre-visiting as an art of pre-production at the location to identify issues and planning to solve them during actual production. He also discusses various equipment used by directors and producers like Tripod, reflectors, memory cards among others. He explains the structure of the process which includes, pre-production, production, and post-production. He encourages a variety of shots as sometimes, useless shots become useful at the editing table. He talks about the importance of logging and discusses the Script format in detail. He gives advice on what to use and what to avoid while editing. The lecture was well presented with various examples and was a success.

The Public Relations Society of India started 15 Day PR – Mass Communication Orientation, inaugurated by Shri Naresh Bansal – a member of Rajya Sabha, Mr. Phileppe Borremans – President of International Public Relations Association and organized by Dr. Ajit Pathak – National President of Public Relations Society of India and Mr. Y Babji – Secretary General of Public Relations Society of India took place on October 3rd, 2021. The programme was conducted in association with the Vivekananda Institute of Professional Studies and sponsored by HPCL.


प्रेस विज्ञप्ति

पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी ऑफ इंडिया

छात्रों के लिए जनसंपर्क और जनसंचार अनुस्थापन कार्यक्रम

चौदवा दिन: वृत्तचित्र निर्माण (डॉक्यूमेंट्री प्रोडक्शन)

प्रो. देव व्रत सिंह

(केंद्रीय विश्वविद्यालय, रांची)

नई दिल्ली: 14 अक्टूबर, 2021

पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी ऑफ इंडिया के 15 दिवसीय पीआर-मास कम्युनिकेशन अभिविन्यास कार्यक्रम के चौदवे दिन पर अतिथि वक्ता थे प्रोफेसर देव व्रत सिंह जी। प्रोफेसर सिंह रांची में स्थित झारखंड केंद्रीय विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग में संचार के प्रोफेसर हैं। वह पिछले 24 वर्षों से मीडिया प्रोफेशन, टीचिंग, ट्रेनिंग और रिसर्च में सक्रिय रूप से लगे हुए हैं।

छात्रों के लिए ऑल इंडिया पीआर मास कम्युनिकेशन ओरिएंटेशन प्रोग्राम के आज के सत्र में प्रो.देव व्रत सिंह ने ‘डॉक्यूमेंट्री प्रोडक्शन’ यानि वृत्तचित्र के निर्माण के उपर चर्चा की।उन्होंने हमें बताया कि कैसे एक वृत्तचित्र का निर्माण किया जाता है और इसे बनाते समय क्या बारीकियां शामिल होती हैं। प्रोफेसर सिंह ने हमें बताया कि वृत्तचित्र एक बौद्धिक कार्य है जिसमें तकनीकी और रचनात्मक दोनों पहलू शामिल होते हैं। उन्होंने उद्धृत किया कि वृत्तचित्र को ‘रियलिटी ऑन द रील’ के दस्तावेजीकरण के रूप में वर्णित किया जा सकता है। यह एक फिल्म का एक गैर-काल्पनिक (नॉन-फिक्शन) प्रारूप है। उन्होंने बताया की अब हम डिजिटल क्रांति के युग में रह रहे हैं, जिसकी वजह से समकालीन समय में मीडिया पेशेवरों के लिए दृश्य अब पहले से कहीं अधिक प्रासंगिक हैं।

उन्होंने आगे उन सॉफ्टवेयर्स के बारे में चर्चा की जो स्क्रिप्ट संपादन में काफी हद तक मदद करते हैं। उन्होंने वास्तविक उत्पादन के दौरान होने वाली समस्याओं की पहचान करने के लिए प्री-प्रोडक्शन के हिस्से के रूप में स्थानों का पूर्व-विजिटिंग के महत्व के बारे में बात की। उन्होंने निर्देशकों और निर्माताओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले विभिन्न प्रकार के उपकरणों जैसे ट्राइपॉड, रिफ्लेक्टर, मेमोरी कार्ड आदि पर भी चर्चा की। उन्होंने प्रक्रिया की संरचना की व्याख्या की जिसमें प्री-प्रोडक्शन, प्रोडक्शन और पोस्ट-प्रोडक्शन शामिल हैं। उन्होंने उत्पादन के दौरान अधिक से अधिक शॉट्स प्राप्त करने के लिए भी प्रोत्साहित किया क्योंकि वे संपादन टेबल पर उपयोगी हो सकते हैं। अंत में उन्होंने छात्रों को लॉगिंग के महत्व के बारे में बताया और स्क्रिप्ट प्रारूप पर विस्तार से चर्चा की। आज के पूरे व्याख्यान को विभिन्न उदाहरणों के साथ प्रस्तुत किया गया जो की फेसबुक और यूट्यूब लाइव पर सफलता से आयोजित किया गया था। इस 15 दिवसीय पीआर – मास कम्युनिकेशन ओरिएंटेशन पोग्राम की पहल पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी ऑफ इंडिया द्वारा की गई है, जिसका उद्घाटन श्री नरेश बंसल – राज्यसभा के सदस्य, श्री फिलिप बोरेमैन – इंटरनेशनल पब्लिक रिलेशंस एसोसिएशन के अध्यक्ष और डॉ अजीत पाठक द्वारा आयोजित किया गया है। इस कार्यक्रम के सहयोगी भागीदारों है – हिंदुस्तान पेट्रोलियम (एच.पी.सी.एल) एवं विवेकानंद इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज (वी.आई.पी.एस)।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s